Friday, September 18, 2015

पैदावार बढ़ाने के लिए तकनीक पर जोर

सूखे की आशंका से जूझ रही बिहार सरकार इस साल धान की पैदावार में इजाफा करने के लिए तकनीक का सहारा लेने का फैसला लिया है। राज्य सरकार इस साल 3-4 लाख हेक्टेयर में संकर (हाईब्रिड) बीजों से खेती कराएगी। साथ ही, उसने पैदावार में इजाफे के लिए उन्नत कृषि तकनीकों का भी सहारा लेने का फैसला किया है। इस बीच राज्य मंत्रिमंडल ने डीजल अनुदान के रूप में 785 करोड़ रुपये जारी करने की अनुमति दे दी है।

राज्य सरकार को इस साल सामान्य से कम बारिश होने का अनुमान है। राज्य सरकार के अधिकारियों ने बताया, ' इस साल मानसून राज्य में देरी में आया है। हम इस साल सामान्य बारिश की उम्मीद कर रहे हैं, लेकिन मौसम विभाग के आंकड़ों की मानें तो इस साल राज्य में सामान्य से 5-10 फीसदी तक बारिश हो सकती है। साथ ही, बारिश के औसत दिनों की तादाद भी कम हो सकती है। इस वक्त इस मौसम में औसतन 20-30 दिनों तक बारिश होने की उम्मीद है, जबकि सामान्य मौसम में राज्य में 35-45 दिनों तक बारिश होती है।' कमजोर मानसून का सीधा असर राज्य में धान की पैदावार पर होगा, इसीलिए राज्य सरकार ने इस बार अपनी तैयारी चुस्त करने का फैसला लिया है। पैदावार में इजाफा करने के लिए कृषि विभाग ने इस बार उन्नत बीजों के साथ-साथ नई कृषि तकनीकों का भी इस्तेमाल करने का फैसला लिया है।

राज्य सरकार ने इस साल 3-4 लाख हेक्टेयर में उन्नत बीजों के जरिये खेती कराने का फैसला लिया है। राज्य सरकार ने इसके लिए किसानों को सस्ती दरों में संकर बीज मुहैया कराएगी। राज्य सरकार के सूत्रों ने बताया, 'हम हर खरीफ के मौसम में किसानों को सस्ती दरों पर बीज मुहैया कराते हैं, ताकि राज्य में पैदावार में इजाफा हो सके।'
SOURCE - business-standard

No comments:

Post a Comment

M1